भगवान श्रीराम पर 3-4 तरह की आरतियां Shri Ram Aarti प्रचलित हैं।श्रीराम जी की आरती पाठ कहीं भी और कभी भी किया जा सकता है। … किसी भी नए काम को शुरू करने से पहले, परीक्षा या साक्षात्कार से पहले, बीमार होने पर या यात्रा करते समय उनका जाप किया जा सकता है।

श्रीराम जी की आरती – Shri Ram Aarti

श्री राम चंद्र कृपालु भजमन हरण भाव भय दारुणम्
नवकंज लोचन कंज मुखकर कंज पद कन्जारुणम्

Shri Ram Chandra Kripalu Bhajman Haran Bhav Bhara Darunam
Navakanj Lochan Kanj Mukar Kanj Pad Kanjarunam

कंदर्प अगणित अमित छवी नव नील नीरज सुन्दरम्
पट्पीत मानहु तडित रूचि शुचि नौमी जनक सुतावरम्

Kandarp Agnit Amit Chhavi Nav Neel Neeraj Sundaram
Patpit Manhu Tadit Ruchi Shuchi Naumi Janak Sutavaram

भजु दीन बंधु दिनेश दानव दैत्य वंश निकंदनम्
रघुनंद आनंद कंद कौशल चंद दशरथ नन्दनम्

Bhaju din bandhu dinesh daitya vaish nikandanam
Raghunand Anand Kand Kaushal Chand Dashrath Nandanam

सिर मुकुट कुण्डल तिलक चारु उदारू अंग विभूषणं
आजानु भुज शर चाप धर संग्राम जित खर-धूषणं

sir mukut kundal tilak charu udruv ang vibhushan
Aajanu bhuj shar chap dhar sangat ki khar-dhushman

इति वदति तुलसीदास शंकर शेष मुनि मन रंजनम्
मम ह्रदय कुंज निवास कुरु कामादी खल दल गंजनम्

Iti Vadati Tulsidas Shankar Shesh Muni Man Ranjanam
Mum Hruday Kunj Niwas Kuru Kamadi Khal Dal Ganjanam

मनु जाहिं राचेऊ मिलिहि सो बरु सहज सुंदर सावरों
करुना निधान सुजान सिलू सनेहू जानत रावरो

Manu Jahin Racheau Milhi So Baru Sahaj sundar savro
Karuna Nidhan Sujan Silu Snehu Janat Ravro

एही भांती गौरी असीस सुनी सिय सहित हिय हरषी अली
तुलसी भवानी: पूजि पूनी पूनी मुदित मन मंदिर चली

ahi bhoti gauri asis suni siy sahit hiy harshi ali
Tulsi Bhavani: Pujhi Pooni Pooni mana mandir chali

जानि गौरी अनुकूल सिय हिय हरषु न जाइ कहि
मंजुल मंगल मूल वाम अंग फरकन लगे

Jaani gauri anukul siy hiy harshu na jai kahi
manjul mangal mrut ang farkan lage

Santoshi Mata Ki Aarti Hindi Lyrics सन्तोषी माता आरती

Shri Ram Aarti श्रीराम जी की आरती

By sandip

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *