सुबह यानी 5 बजे सूर्योदय के समय तुलसी माता आरती Tulasi Mata Aarti 6 के बीच कहना बेहतर होगा। तुलसी माता की आरती स्त्री के लिए बहुत फायदेमंद है। साथ ही हमारे धर्म सूरु के अनुसार, मेधा और कुंभ के लिए इस आरती का जाप करना लाभदायक होता है। तुलसी माता की आरती का जाप करने से आप अपने क्रोध पर नियंत्रण रख सकते हैं और अपने मन को प्रसन्न रख सकते हैं।

राशी मंत्रों का पाठ कहीं भी और कभी भी किया जा सकता है। … किसी भी नए काम को शुरू करने से पहले, परीक्षा या साक्षात्कार से पहले, बीमार होने पर या यात्रा करते समय उनका जाप किया जा सकता है। ये राशी मंत्र वास्तव में मंत्र बीज मंत्र हैं जो किसी भी भय, बीमारी, अवरोध, भ्रम आदि को मिटाने की जन्मजात शक्ति रखते हैं।

Tulasi Mata Aarti – तुलसी माता आरती

Jai Jai Tulasi Mata, Sabki Sukhadata Var Mata।

जय जय तुलसी माता, सबकी सुखदाता वर माता॥

Sab Yogo Ke Upar, Sab Rogo Ke Upar,
Ruj Se Raksha Karke Bhav Trata।
Jai Jai Tulasi Mata।

सब योग के ऊपर, सब रोगो के ऊपर,
रुज से रक्षा करके भव त्राता ।।
जय जय तुळशी माता॥

Bahu Putri Hai Shyama, Sur Valli Hai Gramya,
Vishnu Priya Jo Tumko Seve, So Nar Tar Jata।
Jai Jai Tulasi Mata।

बहु पुत्री है श्यामा, सूर वल्ली है ग्राम्य,
विष्णू प्रिया जो तुमको सेवे, सो नर तर जता।
जय जय तुळशी माता॥

Hari Ke Shish Virajat Tribhuvan Se Ho Vandit,
Patit Jano Ki Tarini, Tum Ho Vikhyata।
Jai Jai Tulasi Mata।

हरि के शिष विराजत त्रिभुवन से हो वंदित,
पतित जानो की तारिणी, तुम हो विख्यात।
जय जय तुळशी माता॥

Lekar Janma Bijan Me Aai Divya Bhavan Me,
Manav Lok Tumhi Se Sukh Sampatti Pata।
Jai Jai Tulasi Mata।

लेकर जन्म बिजन मे आई दिव्य भवन मी,
मानव लोक तुम्हे से सुख संपत्ती पाता।
जय जय तुळशी माता॥

Hari Ko Tum Ati Pyari Shyam Varna Sukumari,
Prem Ajab Hai Shree Hari Ka Tum Se Nata।
Jai Jai Tulasi Mata।

हरि तुम तुम अति प्यार श्याम वर्ण सुकुमारी,
प्रेम अजब है श्री हरि तुम से नाता ….
जय जय तुळशी माता॥

Tulasi Mata Aarti – तुलसी माता आरती

Lord Shiva Aarti – ॐ जय शिव ओंकारा Om Jai Shiv Omkara

By sandip

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *