Category: Aarti Sangrah of Gods

मेरे नैना छमा छम बरसे दरश हित तरसे आजा प्यारे सांवरिया

मेरे नैना छमा छम बरसे,दरश हित तरसे,तू आजा प्यारे साँवरिया।। ऋतु राज ने ली अंगड़ाई,कली कली मुसकाई,बीत चला कुसमित कुसमाकर,कसक…