मेरे नैना छमा छम बरसे दरश हित तरसे आजा प्यारे सांवरिया

मेरे नैना छमा छम बरसे,दरश हित तरसे,तू आजा प्यारे साँवरिया।। ऋतु राज ने ली अंगड़ाई,कली कली मुसकाई,बीत चला कुसमित कुसमाकर,कसक…